Loading...
Hindi

बच्चों को होने वाली बीमारियों से जुड़े घरेलू नुस्खे

home remedies
Please follow and like us:

1. बच्चों के पेट में दर्द रोकने का घरेलू उपचार

  • बच्चों को पेट में दर्द कई कारणों से हो सकता है और स्तनपान करने वाले शिशु भी इस समस्या से बचे हुए नहीं है। दूध पिलाने वाली माँ को ऐसे भोजन से बचना चाहिए जो पचाने में भारी हो। अगर आपके शिशु के पेट में दर्द हो रहा है तो आप हींग को पानी में घोल कर उसकी नाभि के आस पास लगा दें। थोड़ी ही देर में आप पाएंगे की शिशु ने रोना बंद कर दिया है और वो सहज हो गया है।
  • एक चौथाई कप पानी में अजवाइन के 15-20 दाने डाल कर इसे तब तक उबालें जब तक वो आधा ना रह जाए उसके बाद उसमे थोड़ा सा गुड़ मिला लें थोड़ा ठंडा होते ही आधा चम्मच सुबह आधा चम्मच शाम को पिलायें आप पाएंगे की बच्चे का पेट दर्द ठीक हो गया है।

2. बच्चे के कान में दर्द को ठीक करने का नुस्खा

  • अगर आपका बच्चा बार बार अपने हाथ को कान के पास ले जा रहा है तो हो सकता है की उसके कान में दर्द हो या उसके कान में कोई फुंसी हो गयी हो अगर ऐसा है तो बच्चे के कान में हलकी सी फूंक मारने से भी आराम मिलता है।
  • कपडे को गर्म करने कान की सिकाई करने से भी बच्चे के कान के दर्द में आराम आता है।
  • अगर आप अपने बच्चे को लेट कर स्तनपान कराती है तो यह भी बच्चे के कान के दर्द का कारण हो सकता है।
  • अगर माँ अपने शिशु के कान में दूध की दो बूँद टपका दे तो भी बच्चे के कान दर्द में आराम आ जाता है।

3. बच्चे के दांत निकलते समय आसानी के कुछ घरेलू नुस्खे

  • जब बच्चों के दाँत निकलते है तो उनके मसूड़ों में बहुत खुजली आती है लेकिन आप इनको कुछ घरेलु नुस्खों से ठीक कर सकते है।
  • आप बच्चे को दन्तोदभेदगदान्तक नामक आयुर्वेदिक गोली पानी में या माँ के दूध में मिला कर दे सकते है इस से बच्चे को आराम आएगा। यह माना जाता है की इस गोली से बच्चों के दांत आसानी से निकल जाते है।
  • आप अपने बच्चे को डॉक्टर वडनेरे का टीथिंग सिरप भी दे सकते है इसके सेवन से बच्चे के दाँत आसानी से निकल जाते है।
  • गाय के दूध में सोंफ डालकर उबालें और एक चम्मच दिन में तीन बार पिलायें आप पाएंगे की बच्चे के दांत आसानी से निकल रहे है।
  • अगर आप अपने बच्चे को टीथर दे रहे है तो उसकी सफाई का खयाल रखें और अगर टीथर नहीं देना चाहते है तो आप अपने बच्चे को नारियल भी दे सकती है।
  • आप अपने बच्चे के मसूड़ों पर दिन में चार पांच बार शहद जरूर लगाएं।

4. बच्चे को दस्त होने पर क्या करें

  • अगर आपके बच्चे को दस्त हो गए है तो उसे जायफल सुबह शाम घिस कर दें ऐसा करने से बच्चे के शरीर की गर्मी भी कम हो जाती है।
  • दूध पीने से जिस बच्चे को उलटी या दस्त की परेशानी होती है उसे सेब का रस दिन में तीन बार पिलाना चाहिए जिस से उनकी यह परेशानी दूर हो जाती है।
  • सेब को हमेशा छिलके उतार कर काम में लें हो सके तो सेब को दूध में भी उबाल लें और बच्चे को दें ऐसा करने से भी बच्चे को आराम मिलता है।
  • दूध में संतरे का रस मिलाकर पीने से भी बच्चे के दस्त दूर हो जाते है।
  • क कप पानी में एक चम्मच सौंफ डालकर उबालें। आधा रह जाये तब छानकर ठंडा होने दें। ये पानी दो-दो चम्मच तीन चार बार पिलाने से दस्त , पेचिश , मरोड़ आदि ठीक हो जाते है।
  • नमक व चीनी का घोल लगातार पिलाना चाहिए ताकि शरीर में पानी की कमी नहीं हो।

5. बच्चा बिस्तर में पेशाब करता है तो उसे रोकने के घरेलू नुस्खे।

  • बच्चे को सोने से पहले पेशाब करने की आदत डालें
  • सोने से आधा घंटे पहले 10 -15 दिन बच्चे को एक कप पानी में दो चम्मच शहद मिलाकर पिलायें। पाँच साल से  कम उम्र वाले बच्चे को शहद एक चम्मच ही दें।

6. बच्चे को सर्दी होने पर क्या करें

बच्चों में सर्दी जुखाम के जाने पहचाने लक्षण हैं जिसमें गले में खराश और बहती नाक अहम् है। यह नाक में बने एक वायरस के कारण होता है जिसपर एंटीबायोटिक दवाओं का भी असर नहीं पड़ता है।

ऐसे में आपको यह करना चाहिए।

शिशु को सर्दी जुखाम की परेशानी असल में नाक बंद होने से होती है ऐसे में आप उसे खोलने का प्रयास करे इसके लिए आप नोज़ो क्लियर या विक्स का इस्तेमाल कर सकते है।

7. बच्चे को कब्ज़ की समस्या होने पर ये घरेलू उपाय अपनाएं

  • बच्चे को कब्ज़ होने पर आप उन्हें संतरे का जूस दे सकते है
  • अगर बच्चे को कब्ज़ है तो आप उन्हें किशमिश भी दे सकते है यह भी कब्ज़ को मिटाती है।
  • अदरक के पेस्ट में मुलेठी मिला कर बच्चे को एक चम्मच सुबह शाम दे सकते है लेकिन यह याद रहे की बच्चा 5 वर्ष से बड़ा हो।
  • अगर आपके बच्चे के कब्ज़ की वजह से पेट में दर्द हो रहा है तो आप उसके पेट की सिकाई बेकिंग सोडा को कपडे में बांध कर उसे गरम कर के कर सकते है।

8. शिशु के मुँह में हुए छालों के घरेलू उपाय

अगर आपके शिशु के मुँह में छाले हो गए है तो आप उन्हें निम्न घरेलु ओषधियों का इस्तेमाल करके ठीक कर सकते है।

  • शहद के इस्तेमाल से छाले जल्दी ठीक हो जाते हैं।
  • हल्दी में शहद मिलाकर छालों पर लगाने से भी फायदा होता है।
  • अगर आप अपने शिशु के मुंह के छालों को दूर करना चाहते है तो इसके लिए नारियल बहुत काम आता है। इसका तेल, पानी और दूध तीनों चीजें छाले दूर करने में फायदेमंद है।
  • दर्द से राहत पाने के लिए छालों पर देसी घी लगाना चाहिए।
  • छाछ के सेवन से मुंह में छालों की समस्या दूर होती है।
  • दिन में 3-4 बार छालों पर जैल लगाने से बहुत जल्दी फर्क पड़ता है।

9. बच्चों के सिर से जुएं निकालने के 6 अचूक उपचार

  • अगर आपके बच्चे के सर में जुएं हो गए है तो आप सिरके का इस्तेमाल कर सकते है इसमें पाए जाने वाले एसिडिक लक्षणों से जुएं मर जाते है।
  • नारियल के तेल में कपूर मिलाकर लगाने से भी जुएं मर जाते है
  • प्याज़ का रस लगाने से भी जुएं नष्ट हो जाते है क्योँकि प्यांज़ में सल्फर पाया जाता है जो जुएं नषट करने में बेहद लाभकारी है।
  • अम्लीय होने की वजह से नींबू का रस भी जुएं मारने के लिए इस्तेमाल किया जाता है और इसके इस्तेमाल से रुसी की परेशानी भी दूर हो जाती है।
  • अगर आप नीम की पत्तियों को उबाल कर उसके पानी से बच्चे का सर धो देते है तो भी बच्चे के जुएं नष्ट हो जाते हैं।

10. टॉन्सिल्स के लिए घरेलू उपचार

  • देसी घी की मालिश गले में करने से टॉन्सिल्स में बहुत लाभ मिलता है।
  • गरम पानी में लहसुन पीस कर इसके गरारे करने से भी टॉन्सिल में आराम मिलता है।
  • आप बच्चे को हर्बल चाय का सेवन करा सकते है जिस से टॉन्सिल्स में बेहद फायदा मिलता है।
  • गाजर के जूस का सेवन करें इस से भी टॉन्सिल्स की परेशानी में लाभ मिलता है।
  • पानी में चाय की पत्ती को उबाल लें और इस से गरारे करें आपको टॉन्सिल्स में आराम मिलेगा।
  • गन्ने का जूस भी टॉन्सिल्स में बेहद लाभकारी होता है।

11. निमोनिया ठीक करने के घरेलू उपाय

  • अगर आप हल्दी, कालीमिर्च, मेथी और अदरक का उपयोग प्रतिदिन करते हैं तो यह आपके फेफड़ों के लिए बेहद लाभकारी सिद्ध होगा।
  • तिल के बीज का इस्तेमाल करने से भी निमोनिया का उपचार करने में लाभ मिलता है आप 300 मिलीलीटर पानी में 15 ग्राम तिल के बीज, एक चुटकी साधारण नमक डालकर इसे उबालें और हल्का ठंडा होने पर इसे दिन में तीन बार पिएं आराम मिलेगा।
  • अलसी और एक चम्मच सेहद मिला कर इस्तेमाल करने से भी आराम मिलता है।
  • ताज़ा अदरक का रास लेने या अदरक चूसने से भी निमोनिया में आराम मिलता है।
  • गर्म तारपीन तेल का और कपूर के मिश्रण से छाती पर मालिश करने से निमोनिया से राहत मिलती है।
  • रोगी का कमरा स्वच्छ, और गर्म होना चाहिए। कमरे में सूर्य की रौशनी अवश्य आनी चाहिये।

12 . पीलिया ठीक करने के घरेलू उपचार

  • आप एक केले का छिलका जरा-सा हटाकर उसके अंदर 1 चने जितना भीगा हुआ चूना लगायें एवं रात भर ओस में रखें। अगर आप सुबह उस केले का सेवन करने से पीलिया में लाभ होता है।
  • आप आंकड़े की 1 जड़ को खाने अथवा चावल की धोवन में घिस कर नाक में उसकी एक दो बूंद डालें आपको आराम मिलेगा।
  • 5-5 ग्राम कलमी शोरा एवं मिश्री को नींबू के रस में लेने से केवल 6 दिन में पीलिया में बहुत लाभ प्राप्त होता है। साथ में गिलोय का 20 से 50 मि.ली. काढ़ा पीना चाहिए।
  • दही में मीठा सोडा दाल कर पीने से भी लाभों होता है।
  • जामुन में आयरन पर्याप्त एवं प्रचुर मात्रा में पाया जाता है अतः पीलिया के रोगियों के लिए जामुन का सेवन बेहद हितकारी सिद्ध होता है।
  • अगर आप रोज़ गन्ने का जूस पीते है तो यह पीलिये में काफी लाभकारी सिद्ध होता है।
  • गुड़ और पीसी हुई सौंठ मिला ले और ठंडे पानी के साथ लेने से इस रोग में आराम मिलता है।

13 . आँखों को तंदुरुस्त रखने का घरेलू उपाय

अगर आप अपनी आँखों को तंदुरुस्त रखना चाहते हैं तो आज हम आपको कुछ घरेलु नुस्खे बताएँगे जिस से आप अपनी आँखों को तंदुरुस्त कर पाएंगे।

  • सुबह उठते ही आखें खोल कर मुँह पर पानी के छींटे मारने चाहिए जिस से आँखों की रौशनी तेज़ होती है।
  • सुबह उठते ही आधा चम्मच ताजा मक्खन, आधा चम्मच पसी हुई मिश्री और 5 पिसी काली मिर्च मलाकर चाट लें, इसके बाद कच्चे नारीयल की गिरी के 2-3 टुकड़े खूब चबा-चबाकर खाये और ऊपर से थोड़ी सौंफ चबाकर खा लें फिर दो घंटे तक कुछ भी न खाये अगर ऐसा आप २ महीने तक करते है तो आपके आँखों की रौशनी तेज़ हो सकती है।
  • अगर आप पैरों के तलवों की रोज़ सरसो के तेल से मालिश करते है तो भी आपके आँखों की रौशनी अच्छी हो जाती है।
  • आँखों की रौशनी तेज़ करने के लिए प्रति दिन एक दो गाजर चबा चबा के खाएं ऐसा करने से आपके अंकों की रौशनी तेज़ होगी क्योँकि गाजर का रास आँखों के लिए बेहद अच्छा माना गया है।
  • नियमित रूप से अंगूर खाएं अंगूर खाने से आँखों की रौशनी बढ़ती है
  • 10 ग्राम छोटी हरी इलाइची , 20 ग्राम सौंफ के मिश्रण को महीन पीस लें। एक चम्मच चूर्ण को दूध के साथ नियमित रूप से पीने से आंखों की ज्योति अवश्य ही बढ़ती है।

14. आयरन की कमी दूर करने के घरेलू इलाज

  • खून बढ़ाने के लिए गिलोय का रास सबसे उत्तम माना जाता है ऐसे में अगर आप उसका सेवन करते है तो यह आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगा।
  • अगर आप आंवले का रस और जामुन का रस एक सामान मात्रा में पीते है तो यह आपके शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी नहीं होने देगा। ध्यान रहे की आप यह रस मिला कर पी रहे है।
  • कच्चे सिंघाड़े खाने से भी शरीर में खून की कमी नहीं होती है।
  • मीठे दूध के साथ अगर आप पके हुए आम के गूदे का सेवन करते है तो आपको खून की कमी की शिकायत नहीं होगी।
  • आप दो चम्मच तिल को भिगो लें और उसे शहद में मिला लें अगर आप इसका सेवन दिन में दो बार करते है तो आपको खून की कमी नहीं होगी।

15. दांतो के कीड़ो को हटाने का घरेलू उपचार

  • अगर आपके दाँतों में कीड़ा लग गया है तो आप दो चार लॉन्ग पीस कर कीड़े वाली जगह पर लगाएं आपको दर्द से तो तुरंत आराम मिल जाएगा।
  • अगर आपको लॉन्ग का पाउडर इस्तेमाल करने में परेशानी है तो आप लॉन्ग का तेल इस्तेमाल कर सकते है। आप लॉन्ग के तेल की 3 – 4 बूंदों का इस्तेमाल कर सकते है।
  • दांतों का कीड़ा निकालने के लिए आप जायफल के तेल का इस्तेमाल कर सकते है। आप जायफल के तेल में रुई को भिगो कर कीड़े वाले दांत पर रखदें ऐसा करने से कुछ ही दिनों में कीड़ा निकल जाएगा।
  • लहसुन की एक दो कालिया रोज़ चबाएं इस से बनने वाली लार से आपके दांत में लगे कीड़े को आप हटा सकते है।
  • सरसो के तेल में नमक मिला कर इससे आप रोज़ पेस्ट करें ऐसा करने से आपको कीड़े लगे दांत में आराम मिलेगा।
  • दाँत के दर्द में बर्फ का प्रयोग करने से आपको कई लाभ मिल सकते है क्योँकि ठंडक आपकी सेंसिटिविटी को ख़तम करता है।

16. कान की खुजली रोकने का घरेलू उपचार

अगर आप भी कान की खुजली से परेशान है तो आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलु नुस्खे बताएँगे जिन से आप इस समस्या से निजात पा सकते है।

  • कान की खुजली होने पर आप इसकी सफाई खुद भी कर सकते है लेकिन इसके लिए आपको साफ़ ईयर – बड का इस्तेमाल करना होगा लेकिन अगर समस्या गंभीर है तो आप डॉक्टर से परामर्श आवश्य लें।
  • कान में खुजली कान में व्याप्त नमी से भी हो जाती है ऐसे में आपको सबसे पहले उस नमी को ख़तम करना होगा अगर आप ऐसा करने में कामयाब रहते है तो आप यकीन मानिये की आपके कान की खुजली बहुत जल्द ठीक हो जाएगी।
  • आप कान में होने वाली खुजली को दो तीन बूँद सिरका डालकर भी ठीक कर सकते है। लेकिन उस से पहले सिरके को साफ पानी में मिला लें तो यह ज़्यादा फायदेमंद रहेगा।
  • आप अपने कान की खुजली को रोकने के लिए गरारे या भाप भी ले सकते है।
  • कान की खुजली दूर करने के लिए आप जैतून के तेल का इस्तेमाल भी कर सकते है।
  • आप गरम पानी की बोतल से भी कान के उस भाग की सिकाई कर सकते है।

17. कुपोषण दूर करने के घरेलू नुस्खे

  • अगर आप भी अपने बच्चे के कुपोषण को दूर करना चाहते है तो आपको यह खाद्य पदार्थ अपने बच्चों को जरूर देने चाहिए।
  • कार्बोहायड्रेट का सेवन जरूर करें, आप अपने बच्चे की डाइट में कार्बोहायड्रेट से जुड़े खाद्यपदार्थ शामिल करें इस से आपके बच्चे के ब्रेन, किडनी, हार्ट, मसल्स और सेंट्रल नर्वस सिस्टम को एनर्जी मिलती हैं।
  • बच्चे की खाद्य सामग्री में प्रोटीन का इस्तेमाल जरूर करें क्योँकि ऐसा करने से बच्चों के शरीर में मिक्रोनुट्रिएंट्स की कमी नहीं होती है।
  • कुपोषण को दूर करने के लिए आप भरपूर मात्रा में फैट्स का सेवन करना है ताकी आपके बच्चे का शरीर कुपोषित होने से बच सके।
  • कुपोषण की कमी के दौरान आपको यह हमेशा ध्यान रखना है की आपके शरीर में पानी की कमी ना हो अन्यथा किसी भी प्रकार का भोजन आप लेंगे आपके शरीर पर उसका उल्टा ही प्रभाव आएगा।

18. बच्चों में मधुमेह रोकने के घरेलू उपाय

  • मधुमेह को दूर रखने के लिए आप तुलसी की पत्तियों का इस्तेमाल कर सकते है आपको बता दें की तुलसी की पत्तियां यूग्नोल, मिथाइल यूगेनोल और केरियोफिलीन का उत्पादन करती है जो की शुगर को रोकने में बेहद सहायक है।
  • आप अगर अलसी के बीज का सेवन करते है तो भी आप अपने शुगर के लेवल को सामान्य रख सकते है। आपको बता दें की अलसी के बीजों में प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है जो की शरीर में शुगर को काम करने में मदद करता है। आप इसका चूर्ण बना सकते है और सुबह खली पेट इसका सेवन कर सकते है।
  • बिलबेरी पौधे की पत्तियों का सेवन भी आपको शुगर कंट्रोल करने में मदद करता है। इन पत्तियों में एंथोसियानइदीन की प्रचुर मात्रा पायी जाती है जो की राम बाण का काम करती है। अगर आप प्रतिदिन इसका 100 मिलीग्राम सेवन करते है तो यह आपको शुगर से राहत दिलाने में लाभकारी है।
  • अगर आप दालचीनी का सेवन करते है तो आप यह मान लीजिये की की आप अपने शुगर के लेवल को ठीक रखने में कामयाब हो जायेंगे क्योँकि दालचीनी में शुगर प्रचुर मात्रा में पायी जाती है जो आपके शरीर के लिए काफी उत्तम है।
  • ग्रीन टी का सेवन भी आपको अपने शरीर में शुगर का लेवल कंट्रोल करने में मदद करेगा। आपको बता दें की ग्रीन टी में मज़बूत एंटीऑक्सीडेंट और हायपो ग्लास्मिक यौगिक होता है जो आपके लिए बेहद लाभदायक होता है।
  • नीम भारत में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है अगर आप इसका सेवन करते हैं तो आपके शरीर में शुगर का संतुलन बना रहेगा।
  • ड्रमस्टिक का सेवन भी आपके शरीर में शुगर के लेवल को एक सही मात्रा में रखता है अगर ऐसा नहीं होगा तो आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

19. अनीमिया को दूर करने के घरेलू उपाय

  • अगर आपके शरीर में खून की कमी यानी अनीमिया की शिकायत हो गयी है तो आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलु नुस्खे बताएँगे जिनसे आप आसानी से इस समस्या से निजात पा पाएंगे।
  • आप एक गिलास चकुंदर का जूस लें और उसमे उसी के बराबर सेब का रास मिला दें और रोज़ सुबह खली पेट इसका सेवन करें आपकी अनीमिया की कमी को दूर करने में यह बहुत लाभकारी सिद्ध होगा।
  • 2 चम्मच तिल को 2 घंटे के लिए पानी में भिगोदें और इसके बाद इसको छान कर इसका पेस्ट बनायें और शहद मिला कर खाएं आपके अनीमिया को ठीक करने में यह बेहद लाभदायक है।
  • पके हुए आम को मीठे दूध में मिला कर खाएं आप यह पाएंगे की यह आपके शरीर में खून की कमी को दूर करदेगा।

20. बच्चों में तपेदिक के घरेलू इलाज

  • अगर आप तपेदिक में लहसुन का इस्तेमाल करते है तो यह आपके लिए बेहद लाभदायक होगा क्योँकि लहसुन में सल्फ्यूरिक एसिड होता है जो तपेदिक के कीटाणुओं को मरने में सक्षम है। इतना ही नहीं लहसुन के सेवन से आपकी इम्युनिटी भी बढ़ती है।
  • केले को सदा से ही पोषक तत्व माना गया है और आपको बता दें की केले में कैल्शियम की मात्रा बहुत अधियत में होती है। केले के सेवन से तपेदिक के मरीज़िन में इम्युनिटी बढ़ाने में सहायता मिलती है।
  • आंवला भी पोषक तत्वों में गिना जाता है अगर आप इसका सेवन तपेदिक के दौरान करते है तो यह आपके लिए बेहद लाभदायक सिद्ध होगा। आंवले में इन्फ्लैमेट्री और एंटीऑक्सीडेंट सभी गुण मौजूद है जो आपके स्वास्थ्य को ठीक करने में मदद कर सकता है।
  • संतरे का सेवन भी आपको तपेदिक में लाभ दिला सकता है क्योँकि इसमें क्योँकि इसमें मिनरल्स (minerals) और कंपाउंड (compound) होते हैं जो आपके शरीर में तपेदिक के लक्षणों को समाप्त करने में मदद करता है।
  • काली मिर्च के सेवन से आपके फेंफड़ों की सफाई होती है जिस से आप और आपको तपेदिक के लक्षणों में आराम मिलता है।

21. बच्चों में कब्ज़ की समस्या के घरेलू उपाय

अगर आपका बच्चा कब्ज़ से पीड़ित है तो आप उसका घरेलु इलाज भी कर सकते है। बच्चे का कब्ज़ दूर करने के लिए आप उसे फाइबर युक्त भोजन दे सकते है यह उसके कब्ज़ को दूर करने में सहायक है।

आप अपने बच्चे को किशमिश, खजूर, शहद, चोकर, टिल के बीज, आम, पपीता, अंगूर, अंजीर इत्यादि दे सकते है। यह सभी बच्चे का कब्ज़ दूर करने में बेहद लाभदायक सिद्ध हो सकते है।

कब्ज़ मेटाबोलिज़म से जुडी हुई शिकायत है और इसका निवारण मेटाबोलिज़म को सुधार के ही किया जा सकता है।

22. बच्चे के बुखार के आसान घरेलू उपाय

  • अगर आपके बच्चे की खाना खाने की इच्छा नहीं है तो उसके साथ खाने की ज़बरदस्ती ना करें उसे थोड़े थोड़े अंतराल पर खाने के लिए कहे यही उसके लिए बेहतर भी होगा।
  • आप यह सुनिश्चित करें की आपका बच्चा विश्राम पूरी तरह से कर रहा है अन्यथा विश्राम ना करना उसके लिए बेहद खतरनाक हो सकता है।
  • बच्चे को हमेशा बुखार के समय ढीले कपडे पहनाएं और यह सुनिश्चित करें की उन्होंने हलकी चादर ओढ़ी हुई है।
  • हमेशा यह सुनिश्चित करें की बच्चा एक हवादार कमरे में है और वहां पर प्रकाश की व्यवस्था पूर्ण रूप से है। हमेशा यह भी सुनिश्चित करें की कमरे का तापमान एक सही तापमान पर है जो बच्चे को किसी भी प्रकार से परेशान नहीं कर रहा है।
  • अगर तापमान ज़्यादा है तो बच्चे की त्वचा को कुनकुने पानी से स्पंज कर सकते है यह उसे तरोताज़ा करेगा।
  • बुखार शरीर का ही एक प्रोसेस होता है और आम तोर पर यह दो से तीन दिन में ठीक हो जाता है लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो आप डॉक्टर से सलाह ले सकते है।

 23. बच्चों में विटामिन D की कमी का घरेलू उपचार

अक्सर बच्चों के शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाती है जिसे दूर करने के लिए आज हम आपको कुछ घरेलु नुस्खे बताने जा रहे है।

  • अगर आपके बच्चे के शरीर में विटामिन डी की कमी है तो आप गर्मी के मौसम में उसे 10 से 15 मिनट धूप में खड़ा रख सकते है जिस से उसका शरीर खुद ही विटामिन डी बना लेगा। जब भी हमारा शरीर धूप के संपर्क में आता है तो वो अपने आप ही विटामिन डी का निर्माण करने लग जाता है।
  • अगर आप कम धूप वाले इलाके में रहते है तो आप डी 3 से भरपूर डाइट ले सकते है।
  • यह बात ध्यान रहे की विटामिन डी की कमी से व्यक्ति को ओस्टियोपोरोसिस की शिकायत हो सकती है इसलिए यह सुनिश्चित करलें की बच्चा भरपूर मात्रा में विटामिन डी ले रहा है।

24. बच्चों में विटामिन B12 की कमी के घरेलू उपचार

  • अगर आपको बी12 विटामिन की कमी है तो आप वो खाद्य पदार्थ खाएं जिनसे बी12 विटामिन कमी पूरी हो जैसे आप इस कमी को पूरा करने के लिए मछली (फिश), मांस (खासतौर से लिवर), अंडा, दूध और दूध से बने खाद्य पदार्थों का सेवन करें।
  • अगर आप शाकाहारी है तो आप अनाज, सोयाबीन से बने खाद्य और ख़मीर (yeast) का सेवन करके क्योँकि इनमें बी12 विटामिन भरपूर मात्रा में होता है और इसके सेवन से आप बी12 की डेफिशियेंसी से बच जायेंगे।
  • अगर आपको लगातार विटामिन बी 12 की डेफिशियेंसी रहती है तो आप समय पर टेस्ट भी करा सकते है ताकि आपको यह पता चलता रहे की समस्या कही बढ़ तो नहीं रही है।
  • अगर खाद्य पदार्थो से आपकी यह कमी ठीक नहीं होती है तो आप डॉक्टर की सलाह भी ले सकते है।

25. चिकनपॉक्स (छोटी माता) के घरेलू उपचार

अक्सर यह देखा गया है की माता पिता चिकन पॉक्स का घरेलु इलाज नहीं जानते है इसलिए आज हम आपको चिकन पॉक्स का घरेलु इलाज बताएँगे।

  • चिकन पॉक्स में हुए घावों को अच्छे से साफ़ करें और जब उनसे रिसाव बंद हो जाये तो आप उसे अच्छे से धो भी सकते है ध्यान रहे की आप साफ साबुन और कपडे का इस्तेमाल कर रहे है। अगर आपके घाव में कुछ घुसा हुआ है तो डॉक्टर को जरूर दिखाएँ।
  • हमेशा एंटीबायोटिक का इस्तेमाल करें और जब अपने घाव को साफ करलिया है उसके बाद ही इस क्रीम या मलहम का इस्तेमाल करें आपको बता दें की इन घावों को एंटीबायोटिक तेज़ी से ठीक नहीं करती है लेकिन संक्रमण वृद्धि को होने से रोकती है।
  • कई बार मलहम के इस्तेमाल से स्किन इन्फेक्शन हो सकते है ऐसे में आप किसी भी स्किन क्रीम का इस्तेमाल ना करें।
  • हमेशा घावों को ढक कर रखें ऐसा करने से घाव तेज़ी से भरेगा और संक्रमण भी नहीं होगा लेकिन यह याद रहे की पट्टी जो आप इस्तेमाल कर रहे है वो साफ है अन्यथा स्तिथि बहुत ख़राब हो सकती है।
  • ख़ूब पानी पीजिये। चेचक में निर्जलीकरण महत्त्वपूर्ण लक्षणों में से एक है! सुनिश्चित करें कि पानी उबला हुआ और कमरे के तापमान पर ठंडा किया हो। किसी के साथ अपना ग्लास या पानी की बोतल साझा न करें।
  • छाले के बहार आते ही उन पे नारियल का तेल लगाए। चेचक के पस को उंगलियों पे लगने से बचने के लिए एक रुई की कली से छालों पे तेल लगाए।

26 . बच्चों में टाइफाइड के घरेलू उपचार

अगर आपके बच्चे को टायफाइड हो गया है तो आज हम आपको इसके कुछ घरेलु उपचार बताएँगे।

  • एक गिलास कुनकुना पानी लें और उसमें शहद मिला कर पियें ऐसा करने से आपको टाइफाइड में आराम मिलेगा।
  • हमेशा उबला हुआ और अच्छे से छना हुआ पानी ही पियें।
  • केवल उबला हुआ खाना ही खाएं बहरी खाने से दूरी बनायें रखें।
  • यदि आपके द्वारा संक्रमण फैलने की गुंजाईश है तो घर में भी ना घूमें नहीं तो यह अन्य घरवालों के लिए बेहद खतरनाक हो सकता है।
  • डॉक्टरों ने जो एंटीबायोटिक का कोर्स बताया है उसे हमेशा पूरा करें बीच में ना छोड़ें।

27. काली खांसी इलाज के घरेलू उपाय

  • काली खांसी एक संक्रामक रोग है जो 5 से 15 वर्ष के बच्चों में होती है लेकिन इसे घर पर भी ठीक किया जा सकता है तो चलिए जानते है कुछ घरेलु उपाय।
  • एक बड़े बर्तन में पानी उबाले और उसमे दो तीन बूंदे यूकिलिप्टस आयल की डालें और भाप लें आप पाएंगे की आपको थोड़ा आराम मिल रहा है।
  • 3 ग्राम नारियल का तेल गरम करके बच्चे को पिलायें ऐसा करने से खांसी में आराम मिलेगा। ऐसा करने से खांसी का प्रकोप कम होता है ध्यान रहे की आप बच्चे को तेल दिन में 3 बार से ज़्यादा नहीं पीला रहे है।
  • अदरक का रास शहद में मिला कर पीने से भी खांसी का प्रकोप काम होता है आप ऐसा दिन में दो से 3 बार कर सकते है।
  • बारीक पीसी हुई काली मिर्च को आप गुड़ में मिला कर छोटी छोटी गोलिया बना लें और नियमित अंतराल पर इन्हे लेते रहे आपको खांसी में आराम मिलेगा।
  • खांसी को जड़ से ख़तम करने के लिए आप रात को 2-3 बादाम भिगो कर रख दें और सुबह उनका छिलका उतार कर आप लहसुन और कालीमिर्च में मिला कर पेस्ट बना लें और इसका सेवन नियमित रूप से करें आप पाएंगे की आपकी समस्या दूर होती जा रही है।
  • आग में 2 लॉन्ग भून लें और उनको पीस कर शहद में मिला कर खाएं आपको खांसी में आराम मिल जाएगा।
  • तुलसी के पत्तों में शहद मिला कर खाने से भी खांसी में आराम मिलता है।

28. बच्चों की भूख बढ़ाने के घरेलू उपाय।

  • बच्चों का खाना न खाना एक आम समस्या है और कई माता पिता इस समस्या से परेशान हैं आज हम आपको इसी परेशानी के घरेलु नुस्खे बताने जा रहे है जिनसे आप इस समस्या का समाधान पा पाएंगे।
  • बच्चों को फ़ास्ट फ़ूड से दूर रखें क्योँकि यह माना जाता है की बच्चे इन खाद्यपदार्थों के आदि हो जाते है और फिर उन्हें सामान्य भोजन पसंद ही नहीं आता है। अगर आपका बच्चा ज़्यादा फास्टफूड खाने का आदि हो गया है तो कोशिश करें की वो हफ्ते में एक बार ही फ़ास्ट फ़ूड का सेवन कर रहा है।
  • बच्चों को खाना खाते ही पानी पीने की अनुमति ना दें क्योँकि ऐसा करने से उनको अपचन की शिकायत हो सकती है जिसकी वजह से उन्हें भूक कम लगेगी।
  • अगर आपके बच्चे को भूक नहीं लग रही है तो उसे सेब का सेवन कराएं ऐसा करने से बच्चे की भूक बढ़ेगी।
  • भूख बढ़ाने के लिए आप बच्चे को अजवाइन का चूर्ण भी दे सकते है ऐसा करने से उसकी भूक निश्चित रूप से बढ़ जाएगी।

29.बच्चों के कान के दर्द का घरेलु उपाय

कान का दर्द सबके लिए ही भीषण होता है फिर चाहे वो बच्चे हो या बड़े ऐसे में आज हम आपको कान का दर्द ठीक कर सकते है।

  • तुलसी की कुछ पत्ते लें और उन्हें पीस कर उनका रस कान में डालें ऐसा करने से आपको कान के दर्द में आराम मिलेगा।
  • मेथी के दानो को सरसों के तेल में गर्म करके ठंडा होने के बाद अच्छे से छान के कुछ बूंदे कान में डालें ऐसा करने से आपके कान के दर्द में आराम आएगा।
  • लहसुन को सदा से ही एंटीबायोटिक गुणों से लेस माना गया है ऐसे में अगर आप लहसुन की दो तीन कलियाँ तेल में गरम करके ठंडा होने के बाद उसकी दो तीन बूंदे अपने कान में डालें आपको कान के दर्द में आराम मिलेगा।
  • नीम के तेल की तीन चार बूँदें कान में डालने से भी आपके कान के दर्द की समस्या ठीक हो सकती है।
  • जैतून के तेल से भी कान दर्द में आराम मिलता है लेकिन यह बात ध्यान रहे की आप इस तेल का इस्तेमाल एक नियिमत मात्रा में ही कर रहे है।
  • अदरक में दर्द दूर करने के गुण होते है ऐसे में अगर अदरक को पीस कर जैतून के तेल में गर्म करके कान में डालते है तो आपको कान के दर्द में आराम मिलेगा।
  • कई बच्चों को सर्दी की वजह से भी कान में दर्द की समस्या हो सकती है ऐसे में कान की गरम बोतल की सिकाई आपकी बहुत मदद कर सकती है।

30. बच्चों के हकलाने और तुतलाने के घरेलू उपाय

हकलाना और तुतलाना बच्चों की एक आम समस्या है लेकिन इसका अगर घरेलु उपाय किया जाए तो इसे ठीक किया जा सकता है। तो चलिए जानते है की ऐसे कोनसे घरेलु उपाय है जिन्हे करके आप इस समस्या से निजात पा सकते है।

  • आंवले का सेवन करने से आप हकलाने और तुतलाने की समस्या से निजात पा सकते है यह बताया जाता है की आंवले में आयुर्वेदिक औषधीय गुण होते है जो की आपकी इस समस्या में मदद कर सकते हैं रोज़ एक आंवला जरूर खाएं।
  • छुवाँरे खाने से आवाज़ साफ होती है ऐसे में अगर आप छुवाँरे खाते है तो यह आपकी हकलाने की समस्या को दूर कर सकता है।
  • अगर आप मक्खन और बादाम का सेवन करते है तो आपकी हकलाने की समस्या ख़तम हो सकती है आपको 2-3 बादाम लेने है उन्हें रात भर भिगोने के बाद आपको 30 ग्राम मक्खन के साथ सेवन करना है।
  • आप मिश्री के साथ तीन चार बादाम और काली मिर्च पीस के खाएं आप पाएंगे की आपके हकलाने की परेशानी दूर हो रही है।
  • अगर आपको घरेलु उपायों से आराम नहीं मिल रहा है तो आप स्पीच थेरिपी की ही मदद ले सकते है डॉक्टर का परामर्श आवश्य लें।

31. शिशु या बच्चे के पेट में कीड़े हटाने का घरेलू नुस्खा।

बच्चों के पेट में कीड़े पद जाना एक आम समस्या है ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बताएँगे जिन से आप इस समस्या का निवारण कर सकते है।

  • अगर आप 7 दिन ताल लगातार 11 पपीते के बीज खाते है तो यह आपके बच्चे के पेट के कीड़ों का खात्मा कर सकते है लेकिन एक बार का खयाल रहे की पपीते के बीज का अगर कोई दोष प्रभाव दिख रहा है तो आप इसे खाना बंद भी कर सकते है।
  • रोज़ आप दो चम्मच अनार का रस लें ऐसा करने से एक भी कीड़ा पेट में नहीं बचेगा लेकिन यह इलाज काफी लम्बे समय तक करना होगा।
  • करेले के पत्तों का जूस अगर आप गरम पानी में मिला कर बच्चे को पिलाते है तो पेट के कीड़े साफ़ करने में यह बेहद कारगर सिद्ध हो सकता है।
  • 10 ग्राम नीम की पत्तियों में 10 ग्राम शहद मिला कर अगर आप लेते है तो यह पेट के कीड़ों को साफ करने में बेहद लाभदायक होगा।
  • अजवाइन और उतनी ही मात्रा में गुड़ को मिक्स करके छोटे छोटे टेबलेट बना लें आप यह पाएंगे की आपके पेट के सरे कीड़े ख़तम हो रहे है। इन टेबलेट्स को 3 से 5 साल के बच्चों को दिन में 3 बार दें।

32. बच्चों की नकसीर फूटने का घरेलू उपचार

नकसीर की समस्या बच्चों में बहुत अधिक पायी जाती है यह समस्या ख़ास तौर पर गर्मियों में सबसे ज़्यादा होती है ऐसे में आज हम आपको नकसीर की समस्या का घरेलू उपाय बताएँगे जिस से आप इस समस्या का समाधान पता चलेगा।

  • अगर आप नकसीर की समस्या से परेशान है तो आप ठन्डे पानी का सेवन अधिक से अधिक मात्रा में करें।
  • नकसीर फूटने की स्तिथि में माथे पर ठन्डे पानी की पट्टियां रखें ताकि मानसिक कम्प्रेशन एक सही सय्यम में रहे।
  • माथे को पीछे की तरफ रख के अपनी उँगलियों से नक् को दो से पांच मिनट तक दबाएं आप पाएंगे की आपकी नाक से खून आना बंद हो गया है।
  • क्रॅनबेरी और अनार के रसों को बराबर मिश्रण में सेवन करने से इस तकलीफ़ को होने से रोका जा सकता है।
  • घृत की दो बूँद लेकर उसको नाक में डालने चाहिए. घी इतना संतुलनकारी है की यह खून के बहाव को रोक देगा।

33. बच्चों की आँखों में पानी आने का घरेलु उपचार

बच्चों की आँखों में पानी आना एक आम समस्या है लेकिन इसको आप घरेलू उपायों के द्वारा ठीक कर सकते है तो चलिए इसके बारे में विस्तार पूर्वक जानते है।

  • अगर आपकी आँखों में ज़्यादा पानी आता है तो आप अपनी आँखों में ठन्डे पानी से सिकाई कर सकते है। या फिर कपडे को गीला करके आँखों की सिकाई कर सकते है।
  • जिस प्रकार आप कपडे से सिकाई करते है उसी प्रकार आप गरम पानी में थोड़ी देर टी बैग को डालें और उसके बाद आँखों की सिकाई करें।
  • बेकिंग सोडे की 2-3 चम्मच लें और उन्हें पानी में मिला लें और इस से आँखों को धोएं आप पाएंगे की आपके आँखों में आने वाले पानी की समस्या समाप्त हो गयी है।
  • नमक और पानी का घोल बना लें और उस से अपनी ऑंखें साफ करें आप पाएंगे की आपकी आँखों के इन्फेक्शन में कमी आ रही है।
  • नारियल के तेल को एक अच्छा मोश्चुराइजर मन गया है ऐसे में अगर आप इसे अपनी आँखों पर रगड़ते है तो यह आपके आँखों के इन्फेक्शन को ख़तम कर सकता है।

 

34.बच्चों में होने वाले खसरे का घरेलु उपचार

यह बात देखी गयी है की छोटे बच्चों में खसरे की समस्या हो जाती है ऐसे में आप घरेलु उपायों से भी इसका इलाज कर सकते है तो चलिए इनके बारे में जानते है।

  • 1 ग्राम केसर को शहद के साथ या नारियल पानी के साथ लेने से खसरे में आराम मिलता है।
  • रोगी को केले के पत्ते का रस रोज़ लेने से भी खसरे में आराम मिलता है।
  • अगर आप रोज़ाना तुलसी के पत्तों का रस अपने बच्चे को खसरे में देते है तो उसे बेहद आराम मिलेगा।
  • खसरा निकलने के बाद अगर व्यक्ति को खुजली या जलन की शिकायत होती है तो उसे नीम और आंवला डाल कर पानी को उबालना चाहिए और उससे नहाना चाहिए।
  • ब्राह्मी के रास में शहद मिला कर पिलाने से भी खसरे में आराम मिलता है।
  • खसरा निकलने पर आप आप रोगी को लॉन्ग पीस के दे सकते है जिस से खसरे में आराम आता है।

35.बच्चे को गोरा करने का घरेलू उपाय

अगर आप भी अपने बच्चे को गोरा बनाना चाहते है तो आज हम आपको उससे जुड़े कुछ घरेलु उपाय बताएँगे जिन्हे जानकर आप अपने बच्चे का रंग गोरा कर पाएंगे।

  • अगर आप बच्चे की मालिश गरम नारियल तेल से करेंगी तो कुछ ही दिनों में आप पाएंगे की आपके बच्चे का रंग गोरा हो रहा है।
  • शुरुआती कुछ दिनों में बच्चे को गुनगुने पानी और दूध से नहलाएं ऐसा करने से बच्चे के चेहरे का रंग निखर आएगा।
  • आप चाहे तो बेबी के लिए बेसन और दूध का उबटन भी बना सकते है जिस से नहाने से भी बच्चे का रंग गोरा होता है।
  • बच्चे का रंग गोरा करने के लिए आप हर चार घंटे में उसकी मालिश मॉइस्चराइज़र से करें ऐसा करने से उसकी त्वचा ड्राई नहीं होगी और उसमें निखार आएगा।
  • एक बात का खयाल हमेशा रहे की आप अपने बच्चे को भरपूर मात्रा में विटामिन डी दे रहे है ऐसा करने से आपके बच्चे का रंग उभर के आएगा।
  • फलों का रस भी बच्चों की त्वचा को निखारने का काम करता है ऐसे में आप उन्हें निरंतर रूप से फलों का रस दें।

36.बच्चे की लम्बाई बढ़ाने के घरेलू उपचार

अगर आप भी अपने बच्चे की लम्बाई ना बढ़ने के लिए परेशान है तो आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बताएँगे जिन्हे जानकर आपको लाभ होगा।

  • सबसे पहले आप अपने बच्चे को पूर्ण पोषक तत्व दें क्योँकि लम्बाई ना बढ़ना एक हार्मोनल कारक हो सकता है और अगर आप अपने बच्चे को सरे पोषक तत्व दे रहे है तो उसकी लम्बाई निश्चित ही बढ़ेगी।
  • आप अपने बच्चे को कैल्शियम , आयरन मिनरल , विटामिन प्रोटीन से बनी चीज़े अपने बच्चे को नियमित रूप से खिलानी चाहिए। जिससे सही ढंग से बच्चे का विकास हो सके।
  • आप अपने बच्चे को रोज सुबह , शाम एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी और चार बूँद शिलाजीत डालकर पिलाये।
  • आप अपने बच्चे को दो चम्मच अश्व गंधा और नागोरी का चुरड़ दूध के साथ पिलाये । प्याज़ और गुड़ एक साथ मिलाकर खिलाने से भी लम्बाई बढ़ती है।
  • दो काली मिर्च के साथ 20 ग्राम मक्खन (butter) के साथ खिलायें।
  • विटामिन डी से सबसे अधिक लम्बाई बढ़ती है। इसलिए अपने बच्चे को मशरुम , पनीर तथा दूध से बने सभी खाद्य – पदार्थ को किसी भी रूप में खिलाएं।

37.बच्चों का वजन बढ़ाने का घरेलू उपाय

अगर आप अपने बच्चे का वजन कम होने की वजह से परेशान है तो आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताएँगे जिनसे आप अपने बच्चे का वजन बढ़ा सकते है।

  • कमजोर बच्चे को हमेशा मलाई युक्त दूध ही दें इस से उसकी शारीरक पोषक जरूरते पूरी होंगी। अगर आपके बच्चे को दूध पसंद नहीं है तो आप उसे शेक, स्मूथी या चॉकलेट मिल्क भी दे सकते है।
  • बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए आप उसे घी या मक्खन की अधिक मात्रा देना शुरू कर सकते है। इन्हे दाल में डालकर या रोटी पर लगाकर भी दिया जा सकता है।
  • आपको अपने बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए उसे अत्यधिक मात्रा में कार्बोहाईड्रेट देना चाहिए जैसे आलू, अंडा इत्यादि यह उसके शरीर के लिए भी बेहद पोषक होगा।
  • कमज़ोर बच्चों के लिए दालें और दलों का पानी भी बेहद पौष्टिक सिद्ध होता है ऐसे में आप उन्हें इनकी मात्रा बढ़ा कर भी दे सकते है।
  • कमज़ोर बच्चों का वजन बढ़ाने में सूखे मेवों का भी बहुत बड़ा योगदान होता है इसके साथ ही वो इनके शरीर में पोषक तत्वों की कमी को पूरा करते है।
  • आप अपने बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए उसे पीनट बटर भी दे सकते है इसमें फैट ,विटामिन बी ,मैग्नीशियम आदि की संतुलित मात्रा होता है।

38. बच्चों का वजन कम करने का घरेलू उपाय

आजकल बच्चों का वजन बढ़ना एक आम बात है लेकिन अगर यह ज़्यादा बढ़ जाए तो चिंता का विषय बन जाता है। तो चलिए आज हम कुछ ऐसे घरेलू उपाय बताएँगे जिनसे आप अपने बच्चे का वजन कम कर पाएंगे।

  • बच्चे को सुबह उठ कर व्यायाम करने की आदत डालें ताकी वो अपने शरीर की कुछ कैलोरीज बर्न कर सके और वैसे भी बच्चों के लिए आउटडोर गेम्स बहुत अच्छे होते है।
  • ध्यान रहे की जब बच्चा टीवी देख रहा हो तो उसे कुछ भी खाने को ना दें क्योँकि उस स्तिथि में उसका ध्यान खाने पर नहीं होगा और वो ओवर ईटिंग कर लेगा जिस से उसका वजन बढ़ जाएगा।
  • बच्चे को जंकफूड से दूर रखें क्योँकि यह उसका वजन बढ़ा देगा और ये आप बिलकुल नहीं चाहेंगे तो ऐसे में आप उसे सिर्फ हैल्थी फ़ूड ही खाने को दें ताकी वो फैट से फिट हो जाए।
  • अगर आपके बच्चे को स्नेक्स खाने की आदत है तो आप उसे हेल्थी स्नैक्स दें ताकी उसका वजन ना बढे।
  • आपको बता दें की बच्चे का वजन शारीरिक वजन व्यायाम और डाइट से कम हो सकता है ऐसे में कोई दवाई देने की जरूरत नहीं है

39. बच्चे के ख़राब गले को ठीक करने के घरेलू उपाय

कई बार यह देखा जाता है की कुछ गलत खाने या मौसमी बदलाव से बच्चों का गाला ख़राब हो जाता है ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताएँगे जिनसे आप अपने बच्चे का गाला ठीक रख पाएंगे।

  • 1 कप पानी लें और उसमे ४-५ कलिमिरची एवं तुलसी की थोड़ी सी पत्तिया उबालकर काढ़ा बना लें और उसे उबाल कर पिलाने से गले की खराश ठीक हो जाती है।
  • रत को सोते समय थोड़े से दूध में पानी मिला कर पीने से गाला ठीक हो जाता है आप गाला ठीक करने के लिए रात के समय में गरम पानी भी पी सकते है
  • गुनगुने पानी में सिरका डालकर अगर आप गरारे करते है तो गले के रोग दूर हो सकते है।
  • पालक के पत्तों को पीस कर आप अपने गले से बांध लें और १५ से २० मिनट बाद इसे खोल लें
    ऐसा करने से भी आराम मिलता है।
  • काली मिर्च को 2 बादाम के साथ पीसकर सेवन करने से गले के रोग दूर हो जाते हैं।
  • गले मे खराश हो तो इलायची चबाएं और गुनगुना पानी पीना फायदेमंद होता है।

40.बच्चों में अस्थमा ठीक करने के घरेलू उपाय

आज के समय में बच्चों में भी अस्थमा जैसे जानलेवा रोग पाए जा रहे है ऐसे में अगर आप अपने बच्चे को इस रोग से बचाये रखना चाहते है तो आज हम आपको कुछ घरेलु नुस्खे बताएँगे जिन से आप अपने बच्चे को भी इसकी भीषणता से बचा पाएंगे। आपको बता दें की इस रोग में बचाव रखना ही सबसे उत्तम उपाय है।

  • आपको अपने बच्चे को दूध (स्तनदुग्ध के अतिरिक्त), मेवे, अंडे, दूध (स्तनदुग्ध के अतिरिक्त)।
    मेवे, अंडे, शक्कर, वसायुक्त आहार, ठन्डे भोज्य पदार्थ (आइसक्रीम), शक्कर, वसायुक्त आहार, ठन्डे भोज्य पदार्थ (आइसक्रीम)
  • अगर आपका बच्चा अस्थमा से पीड़ित है तो आप अपने बच्चे को सभी उन चीज़ों से दूर रखें जिनसे उसका अस्थमा दुबारा हो। बच्चे के साथ हमेशा इन्हेलर रखें जिस से वो अगर उसकी साँस फूले तो वो उसे सामान्य कर पाए।
  • अगर आपके बच्चे को अस्थमा है तो आप उसे गरम चीज़ें खाने को दें जिस से उसे इस समस्या से छुटकारा मिल जाए।
  • आपको यह समझना होगा की बच्चे को अस्थमा की दिक्कत होती कब है अगर आप वो साड़ी स्तिथिया समझ जायेंगे तो आप अपने बच्चे को अस्थमा के अटैक से बचा पाएंगे।
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *