Loading...
Hindi

बच्चों का भी हो जाता है लो ब्लड प्रेशर

Please follow and like us:

जन्म लेने के बाद अक्सर ऐसा हो जाता है की बच्चों का ब्लड प्रेशर निम्न स्तर पर पहुँच जाता है ऐसे में आपको कुछ एहतियात बरतने चाहिए। आज इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएँगे की कैसे आप अपने बच्चों को इस समस्या की घडी में एक सही स्तर पर रख सकते है।

क्या होते है नवजात के निम्न रक्तचाप के कारण

  • नवजात में निम्न रक्तचाप के कई कारण हो सकते हैं जैसे- प्रसव के पहले ओर
    बाद में अत्यधिक रक्त का बहना।
  • किसी तरह के इंफेक्शन के कारण।
  • मां को प्रसव से पहले दी गई दवाईयों के कारण।
  • प्रसव के बाद तरल पदार्थ का बहुत अधिक बहना।
  • अचानक नवजात के माहौल में आया परिवर्तन भी इसका मुख्य कारण है।
  • नवजात का कमजोर होना या फिर नवजात शिशु में अधिक कमजोरी का होना।

क्या है नवजात की निम्न रक्तचाप की स्तिथि को सुधारने का तरीका

  • नवजात शिशु के शरीर को हमेशा ढककर रखना चाहिए क्यों कि छोटे बच्चों का शरीर बाहरी तापमान के अनुसार स्वयं को ढाल नहीं पाता है।
  • नवजात जहां हो वहां का तापमान 37 डिग्री सेल्सियस के आसपास होना चाहिए।
    नवजात का रोना हमेशा चिंता की बात नहीं होती। ज्यादातर बच्चे भूख लगने पर या बिस्तर गीला करने पर रोते हैं। बच्चे के रोने पर इन बातों का ध्यान दें।
  • अगर बच्चा लगातार रोता रहता है, तो उसे चिकित्सक को दिखायें।
  • छोटे बच्चों की मालिश करने से उनकी हड्डियां मजबूत बनती हैं और यह मालिश बेहद आवश्यचक है।
  • नवजात की मालिश के लिए बादाम का तेल प्रयोग कर सकती हैं। जन्‍म के 10 दिन के बाद बच्‍चे के शरीर की मालिश कर सकते हैं।

हम आशा करते है की यह जानकारी आपके लिए ज्ञानवर्धक सिद्ध हुई होगी और आप इसे अपने मित्रों के साथ आवश्य शेयर करेंगे। अगर इस लेख से जुड़ा आपका कोई सुझाव या टिपण्णी हो तो हमारे साथ आवश्य शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *